भाविना पटेल का जीवन परिचय, टेबल टेनिस खिलाड़ी, टोक्यो पैरालंपिक मैडल [Bhavina Hasmukhbhai Patel Paralympics 2021, Biography in Hindi]

    भाविना हसमुखभाई पटेल का जीवन परिचय, टेबल टेनिस खिलाड़ी, टोक्यो पैरालंपिक मैडल, कहानी, धर्म, जाति, परिवार, पति, करियर [Bhavina Hasmukhbhai Patel Tokyo Paralympics 2021, Biography in Hindi] (Match Schedule, Table Tennis, Final, Ranking, Medal, Religion, Caste, Marriage, Husband, Career)

    टोक्यो पैरालिंपिक में भारत को जीत दिलाने वाली टेनिस खिलाड़ी भाविना पटेल आज काफी सुर्खियां बटोर रही हैं। सुर्खियां बटोरने का कारण हैं उनकी जीत जिसपर उन्होंने लगातार अपनी पकड़ मजबूत की हुई है। आपको बताएं की उन्होंने पैरालिंपिक में चीनी खिलाड़ी को मात दी, और अपनी जगह को टोक्यों पैरालिंपिक के फाइनल में बना ली है। ये गोल्ड मैडल जीतने के केवल एक कदम दूर है. खास बात ये है कि, उन्होंने अपनी सूझबूझ से इस गेम में अपनी जगह बनाई है और देश के लोगों को दिखा दिया की जब दिल में किसी चीज को लेकर दृढ़ निश्चय कर लो तो आप पूरी दुनिया हासिल कर सकते हो। उन्होंने भी यही किया और महिला एकल क्लास 4 वर्ग में चीन की झांग को 7-11, 11-7, 11-4, 9-11, 11-8 से मात दी। आइये जानते हैं इनके जीवन के बारे में खास बातें.

    bhavina hasmukhbhai patel in hindi

    भाविना हसमुखभाई पटेल जीवन परिचय (Bhavina Hasmukhbhai Patel Biography in Hindi)

    नामभाविना पटेल
    पूरा नामभाविना हसमुखभाई पटेल
    जन्म6 नवंबर 1986
    जन्म स्थानसुधिया गांव (गुजरात)
    पिता का नामहसमुख भाई पटेल
    धर्महिन्दू
    जातिगुजराती
    किस गेम में हैं एक्सपर्टटेबल टेनिस
    कितने जीते पदक26 पदक किए हासिल

    भाविना पटेल का जन्म एवं शुरूआती जीवन (Bhavina Patel Birth and Early Life)

    भाविना पटेल जिनका जन्म 6 नवंबर 1986 को गुजरात के एक गांव सुधिया में हुआ। वो भी एक साधारण बच्चे की तरह जन्मी। लेकिन पैदा होने के एक साल बाद वो पोलियो जैसी बीमारी का शिकार हो गई। उनके घर में उनके माता-पिता, एक भाई और एक बहन हैं। भाविना पटेल की शुरूआती पढ़ाई उनके ही गांव के एक स्कूल में ही हुई। वो हमेशा से ही पढ़ाई में बहुत अच्छी थी। वो स्कूल में जब भी जाती तो सबसे ज्यादा दिलचस्पी स्पोर्ट्स में दिखाती। लेकिन अपनी बीमारी के कारण वो उसमें हिस्सा नहीं ले पाती। जिसके कारण वो कभी-कभी निराश भी दिखाई देती थी।

    भाविना पटेल की बीमारी (Bhavina Patel Polio)

    भाविना पटेल जब एक साल की थी तो वो पोलिस जैसी बीमारी से ग्रस्त हुई जिसके बाद वो सही से चलने में सक्षम नहीं थी। जब वो चौथी कक्षा में आई तो उनके पिता ने उनका इलाज शुरू कराया जिसके लिए उनके पिता उन्हें लेकर विशाखापट्नम पहुंचे वहां उनकी सर्जरी की गई। सर्जरी में इतना खर्चा आया की परिवार को आर्थिक समस्या से गुजरना पड़ा। जिसके कारण उनका रखरखाव भी सही से नहीं हो पाया। इसी के कारण वो इस बीमारी से अपना पीछा कभी नहीं छुड़ा पाई और वो कभी सही नहीं हो पाई।

    भाविना पटेल की शिक्षा (Bhavina Patel Education)

    भाविना पटेल का परिवार उनकी इस बीमारी से काफी परेशान था, लेकिन उन्होंने कभी अपने जीवन से हार नहीं मानी और अपनी इस कमी को अपनी ताकत बनाई उन्होंने अपनी 12वीं तक की पढ़ाई पूरी की साथ ही 2004 में उन्होंने तेजल बेन लखिया से कंप्यूटर सीखा और कोर्स को पूरा किया। साथ ही उन्होंने गुजरात विश्वविधालय से पत्राचार से अपनी पढ़ाई जारी रखी। उनके इस साहस ने उन्हें हमेशा आगे बढ़ने की प्रेरणा दी। जिसके कारण वो हमेशा आगे बढ़ती रही। शिक्षा समाप्त होने के बाद वो क्या करें इसके बारे में बहुत विचार किया गया। लेकिन खेलों को लेकर उनकी रूचि ने उन्हें ललन दोषी से मिलाया।

    भाविना पटेल का टेबल टेनिस का सफर (Bhavina Patel Tabel Tennis)

    भाविना पटेल हमेशा से ही स्पोर्ट्स में रूचि रखती थी, लेकिन अपनी कमी के कारण वो ऐसा नहीं कर पाई। मगर कहते हैं ना दिल से कुछ चाहों तो वो आपको जरूर मिलता है। ऐसा ही उनके साथ हुआ। जब उनको कंप्यूटर सिखाने वाली तेजल को पता चला की वो स्पोर्ट्स में रूचि रखती है तो उन्होंने उनकी मुलाकात ललन दोषी से कराई। जो आगे जाकर भाविना के कोच भी रहे। उन्होंने भाविना को टेबल टेनिस की सीख दी। तीन साल की कड़ी मेहनत और दृढ़ निश्चय ने उन्हें राष्ट्रीय पैरा टेबल टेनिस खेलने की मजबूती दी, जिसके बाद उन्होंने अपना पहला गोल्ड मेडल हासिल किया। इसके बाद तो उनका किस्मत उनका साथ देने लगी और देखते ही देखते वो टूर्नामेंट खेलती हुई नजर आई और पदक पर पदक हासिल करती रहीं वो दिन था और आज का दिन उन्होंने कभी पीछे मुड़कर नहीं देखा।

    भाविना पटेल मैडल एवं उपलब्धियां (Bhavina Patel Awards and Medals)

    • 2013 में उन्होंने आइटीटीएफ पीटीटी एशियाई टेटे की चैंपियनशिप जीती और अपने नाम किया रजत पदक जिसके बाद वो बनी पहली भारतीय पैरा टेबल टेनिस खिलाड़ी।
    • 2011 में पीटीटी थाइलैंड में हुई टेबल टेनिस प्रतियोगिता में रजत पदक हासिल कर विश्व रैंकिंग में दूसरा स्थान हासिल किया।
    • 2017 में चीन द्वारा आयोजित अंतरराष्ट्रीय टेबल टेनिस में उन्होंने कांस्य पदक हासिल किया।
    • 2020 में वो पैरा ओलंपिक में क्वालीफाई हुई और पहली इंडियन पैरा टेबल टेनिस प्लेयर बनी जो अंतरार्ष्ट्रीय स्तर पहुंची।
    • 2021 में टोक्यो में हो रहे पैरालिंपिक में अब चीनी खिलाड़ी को हराकर स्वर्ण को हासिल करने की राह बनाई।

    भाविना पटेल ने रचा इतिहास

    भाविना पटेल पैरा पेडलर के क्साल 4 पैरा टेबल टेनिस के फाइनल में पहुंचने वाली पहली भारतीय महिला बनी। जिन्होंने चीन की एम. जैंग को 3-2 से मात दी और गोल्ड के लिए अपनी जगह हासिल की। ऐसा खेला की सबको दिखा दिया की बाजू में दम हो तो जीत अपने नाम करने के लिए कोई नहीं रोक सकता। ये भारत की वो बेटी है जिसने अपनी मेहनत से भारत का नाम रोशन किया। हर कोई सिर्फ एक ही चर्चा करता है, बेटी हो तो भाविना पटेल जैसी जिसने हर मुश्किल पार कर अपना रास्ता खुद बनाया और उसको जीतकर अपना मुकाम हासिल किया।

    भाविना पटेल की जीत बनेगी लोगों के लिए प्रेरणा का कारण

    भाविना पटेल ने जो करके दिखाया उसको शायद ही हम या आप कभी भी भूल पाएगे। वो उन लोगों के लिए प्रेरणा का जरिया बनी है जो अपनी जिंदगी से हार मान लेते हैं। वो सोचते हैं जो कमी उनको मिली है उसके बाद को कुछ करने के काबिल नहीं है। लेकिन भाविना पटेल को देखकर आपको ऐसा बिल्कुल नहीं लगेगा। क्योंकि उन्होंने अपनी कमजोरी को अपनी मजबूती बनाई और ये साबित कर दिया की शारीरिक चोट आपको कमजोर कर सकती है लेकिन आपके इरादों को हमेशा जिंदा रखेगी। बस आप अपने सोचे हुए सपने पर अटल रहें मंजिल आपको खुद मिल जाएगी।

    FAQ

    Q : भाविना पटेल अबतक कितने मैडल जीत चुकी हैं ?

    Ans : अबतक भाविना 26 मैडल अपने नाम कर चुकी हैं।

    Q : भाविना पटेल अबतक कितने मैडल जीत चुकी हैं ?

    Ans : अबतक भाविना 26 मैडल अपने नाम कर चुकी हैं।

    Q : भाविना पटेल कहां की रहने वाली हैं ?

    Ans : भाविना पटेल गुजरात के एक गांव सुधिया की रहने वाली हैं।

    Q : भाविना पटेल को कब पता चला की उन्हें पोलियो हुआ है ?

    Ans : उनके माता-पिता को उनकी इस बीमारी के बारे में तब पता चला जब वो एक साल की थी।

    Q : क्या भाविना जीत पाएगी टोक्यो पैरालिंपिक में स्वर्ण पदक ?

    Ans : जी हां बिल्कुल वो टोक्यो पैरालिंपिक में जरूर जीतेगी सवर्ण पदक।

    अन्य पढ़ें –

    1. डिंपल चीमा का जीवन परिचय
    2. Jio Phone Next Booking
    3. Ola Electric Scooter Booking
    4. ICC Cricket T20 World Cup 2021

    LEAVE A REPLY

    Please enter your comment!
    Please enter your name here