हिमाचल प्रदेश स्वर्ण जयंती विद्यार्थी अनुशिक्षण योजना 2021, ऑनलाइन आवेदन (Swarna Jayanti Vidyarthi Anushikshan Yojana HP)

    हिमाचल  प्रदेश स्वर्ण जयंती विद्यार्थी अनुशिक्षण योजना 2021, ऑनलाइन आवेदन, मेडिकल एवं इंजीनियरिंग निशुल्क कोचिंग, पात्रता, दस्तावेज, अधिकारिक वेबसाइट, हेल्पलाइन नंबर (Swarna Jayanti Vidyarthi Anushikshan Yojana HP) (Online Application, Medical and Engineering Free Coaching, Eligibility, Documents, Official Website, Helpline Number)

    किसी भी देश या राज्य के विकास में शिक्षित नागरिकों की अहम भूमिका होती है, जिसे समझते हुए केंद्र एवं राज्य सरकार शिक्षा को प्रोत्साहन देने के लिए छात्रों के लिए तमाम तरह की योजनाएं लांच करती रहती हैं। इस बार हिमाचल प्रदेश सरकार द्वारा हिमाचल प्रदेश स्वर्ण जयंती विद्यार्थी अनुशिक्षण योजना की शुरुआत की गई है, यह योजना क्या है? और इनसे किन-किन को फायदा मिलेगा संपूर्ण जानकारी आज हम आपके लिए इस लेख में लेकर आए हैं, अतः लेख में अंत तक बने रहे।

    hp swarana jayanti vidyarthi anushikshan yojana in hindi

    Table of Contents

    हिमाचल प्रदेश स्वर्ण जयंती विद्यार्थी अनुशिक्षण योजना 2021 (Swarna Jayanti Vidyarthi Anushikshan Yojana HP)

    योजना का नामस्वर्ण जयंती विद्यार्थी अनुशिक्षण योजना
    राज्यहिमाचल प्रदेश
    योजना लांच की गईशिक्षा मंत्री गोविंद ठाकुर
    योजना का उद्देश्यसरकारी स्कूल के बच्चों को मेडिकल और इंजीनियरिंग की शिक्षा देना
    लाभार्थीसरकारी स्कूल के 9वी कक्षा से 11वीं कक्षा के बच्चे
    अधिकारिक वेबसाइटNA
    हेल्पलाइन नंबरNA

    एचपी स्वर्ण जयंती विद्यार्थी अनुशिक्षण योजना क्या है (Swarna Jayanti Vidyarthi Anushikshan Yojana)

    हिमाचल प्रदेश सरकार ने सरकारी स्कूलों में पढ़ने वाले विद्यार्थियों को मेडिकल और इंजीनियरिंग की पढ़ाई हेतु प्रेरित करने के लिए फ्री में NEET और JEE की पढ़ाई करवाने के लिए यह योजना जारी की है। इस योजना के अंतर्गत सरकार ने नौवीं कक्षा से 12वीं कक्षा के बच्चों को कोचिंग देने की बात कही है। शिक्षक दिवस के अवसर पर शिक्षा मंत्री गोविंद ठाकुर ने इस योजना को लागू किया था। ‌ राज्यपाल द्वारा जारी की गई इस नई शिक्षा नीति को जल्द से जल्द राज्य में लागू किया जाएगा। इस योजना को लागू करने के साथ-साथ सरकार ने यह बात भी कही है कि हिमाचल प्रदेश में 7 सितंबर से लेकर 17 सितंबर तक स्कूल और कॉलेजों में शिक्षा पर्व मनाया जाएगा। इस पर्व का उद्घाटन नरेंद्र मोदी जी द्वारा 7 सितंबर के दिन 11:00 बजे किया गया था।

    एचपी स्वर्ण जयंती विद्यार्थी अनुशिक्षण योजना उद्देश्य (Objective)

    हिमाचल प्रदेश वर्ण जयंती विद्यार्थी अनुज शिक्षण योजना का उद्देश्य हिमाचल प्रदेश में सरकारी स्कूलों में पढ़ने वाले विद्यार्थियों को neet, jee जैसी बड़ी बड़ी परीक्षाओं के लिए तैयार करना है। इन परीक्षाओं की पढ़ाई करने के लिए कोचिंग में बहुत पैसे लगते हैं जिसके कारण कई बार बच्चे इन परीक्षाओं के लिए तैयारी नहीं कर पाते हैं। इसीलिए इस बार राज्यपाल ने मेडिकल और इंजीनियरिंग की पढ़ाई के लिए जो कोचिंग दी जाएगी उसे फ्री में देने की योजना बनाई गई है ताकि हर कोई इस पढ़ाई को कर सकें।

    एचपी स्वर्ण जयंती विद्यार्थी अनुशिक्षण योजना लाभ (Swarna Jayanti Vidyarthi Anushikshan Yojana HP Benefit)

    हिमाचल प्रदेश स्वर्ण जयंती विद्यार्थी अनुशिक्षण योजना के अंतर्गत विद्यार्थियों को यह लाभ प्राप्त होंगे –

    • इस योजना के तहत विद्यार्थी नौवीं कक्षा से ही इंजीनियरिंग और मेडिकल की पढ़ाई कर पाएंगे जिससे उन्हें यह परीक्षा पास करने में थोड़ी सुविधा मिलेगी।
    • JEE और NEET जैसी परीक्षाओं के कोचिंग के लिए बहुत ज्यादा रुपए खर्च करने पड़ते हैं, लेकिन इस योजना के बाद विद्यार्थी बिना एक रुपए खर्च किए ही फ्री में कोचिंग प्राप्त कर सकते हैं।
    • इस योजना को जारी करने के बाद राज्य की शिक्षा व्यवस्था में सुधार होगा। जब शिक्षा व्यवस्था अच्छी रहेगी तब राज्य में पढ़े लिखे लोगों की संख्या बढ़ेगी और इस तरह से अर्थव्यवस्था में भी सुधार आएगा।

    HP Swarna Jayanti Vidyarthi Anushikshan Yojana Implementation

    हिमाचल प्रदेश स्वर्ण जयंती विद्यार्थी अनुशिक्षण योजना को जारी करते समय राज्यपाल ने यह भी स्पष्ट किया था कि इस योजना को दो चरणों में लागू किया जाएगा। सरकार ने यह बात भी कहीं है कि कोरोना आउटब्रेक के कारण ऑनलाइन शिक्षा की जो प्रणाली बनाई गई है उसके अंतर्गत सभी पाठशालाओं को ऑनलाइन मीडियम से ही इसकी कोचिंग देनी होगी। यह खास कोचिंग शनिवार और रविवार के दिन दी जाएगी और इस कोचिंग को ज्वाइन करना सभी बच्चों के लिए अनिवार्य बनाया गया है। बच्चों को कोचिंग देने के लिए शिक्षा विभाग के State resource group के एक्सपर्ट टीचर video के माध्यम से lesson तैयार करेगी।

    जैसा कि हमने आपको बताया कि सरकार ने इस योजना के अंतर्गत अभी केवल नौवीं कक्षा से 12वीं कक्षा के बच्चों को ही शामिल किया है तो उन्हें इस कोचिंग में पढ़ना होगा। योजना लागू करने के पहले चरण में बच्चों को इन परीक्षाओं के विषय में बेसिक जानकारी दी जाएगी साथ ही साथ उन्हें विज्ञान और गणित जैसे विषयों पर भी पढ़ाया जाएगा।

    इतना ही नहीं इस कोचिंग में यह भी बताया जाएगा कि नीट की परीक्षा में किस तरह के प्रश्न आते हैं और जेईई की तैयारी करने के लिए पेपर कैसा होता है!

    इस पढ़ाई के दौरान बच्चों को यह भी बताया जाएगा कि इस तरह के एग्जाम को पास करने के लिए कौन सी किताबें पढ़नी पड़ती है और इस तरह के सिलेबस को फॉलो करना होता है।

    9वीं से 11वीं कक्षा तक के बच्चों को सिर्फ कोचिंग दी जाएगी लेकिन जब यह बच्चे 11वीं की परीक्षा पास करके 12वीं में जाएंगे तब उनका टेस्ट लिया जाएगा।

    इस परीक्षा में जो विद्यार्थी बेहतरीन प्रदर्शन करेंगे उनमें से 10% विद्यार्थियों को फाइनल कोचिंग यानी कि इस योजना के दूसरे चरण के लिए सिलेक्ट किया जाएगा। दूसरे चरण में सिलेक्ट करते समय बच्चों से उनकी रुचि भी पूछी जाएगी। मतलब यह है कि 12वीं की परीक्षा पास करने के बाद वह मेडिकल या फिर इंजीनियरिंग के क्षेत्र में जाना चाहते हैं या नहीं।

    सरकार द्वारा जारी की गई इस योजना के बाद हिमाचल प्रदेश में शिक्षा के क्षेत्र में विकास देखने की उम्मीद की जा रही है।

    स्वर्ण जयंती विद्यार्थी अनुशिक्षण योजना बजट (Swarna Jayanti Vidyarthi Anushikshan Yojana Budget)

    किसी भी योजना को लागू करते समय बजट को विशेष तौर पर ध्यान में रखा जाता है। इसलिए इस योजना को भी जारी करते समय राज्यपाल ने निश्चित रूप से इसे लागू किया क्योंकि मुख्यमंत्री ने इस योजना के बारे में बजट के समय ही कहा था और शिक्षा विभाग के पास इस योजना को जारी करने के लिए पहले से ही बजट है।

    सरकार के अनुसार इस योजना को चलाने के लिए 5 करोड़ की धनराशि की आवश्यकता होगी जो उनके पास पहले से ही उपलब्ध है इसीलिए इस योजना को लागू करने में सरकार को किसी भी तरह की कोई परेशानी नहीं होगी।

    अब इस योजना के जारी हो जाने के बाद राज्य के होशियार छात्रों को पढ़ाई के लिए ना सिर्फ वित्तीय सहायता प्रदान की जाएगी बल्कि गणित व साइंस के पढ़ाई करने के लिए लैब से लेकर इंग्लिश कम्युनिकेशन के लिए कोचिंग सेंटर भी तैयार किया जाएगा।

    इस योजना के अंतर्गत सरकार बच्चों को परीक्षा पास करने के लिए पूरी कोचिंग तो फ्री में दे ही रही है साथ ही साथ सरकार ने राज्य के मेधावी छात्रों को ₹10,0000 की वित्तीय सहायता प्रदान करने की बात भी कही है।

    FAQ

    Q : हिमाचल प्रदेश स्वर्ण जयंती विद्यार्थी अनुशिक्षण योजना को किसने लागू किया ?

    Ans : हिमाचल प्रदेश के राज्यपाल

    Q : हिमाचल प्रदेश स्वर्ण जयंती विद्यार्थी अनुशिक्षण योजना में कितना बजट बनाया गया हैं ?

    Ans : 5 करोड़ रूपए

    Q : स्वर्ण जयंती विद्यार्थी अनुशिक्षण योजना के अंतर्गत किस परिक्षा की तैयारी करवाई जाएगी ?

    Ans : JEE और NEET

    Q : स्वर्ण जयंती विद्यार्थी अनुशिक्षण योजना के अंतर्गत कितने क्लास के बच्चों को शामिल किया गया है ?

    Ans : नौवी से बारवी कक्षा।

    Q : स्वर्ण जयंती विद्यार्थी अनुशिक्षण योजना का उद्देश्य क्या है ?

    Ans : बच्चो की जेईई और नीट के एग्जाम की तैयारी करना।

    अन्य पढ़ें –

    1. हरियाणा कौशल रोजगार निगम
    2. बाल कल्याण योजना हिमाचल प्रदेश
    3. छात्रावास सुविधा योजना हिमाचल प्रदेश
    4. बालिका जन्म उपहार योजना हिमाचल प्रदेश

    LEAVE A REPLY

    Please enter your comment!
    Please enter your name here